एक मामूली चमत्कार के पीछे क्या है?

एक मामूली चमत्कार के पीछे क्या है?

Jhalak

 

एक मामूली चमत्कार के पीछे क्या है?

 

Glimpses

Keystone Human Services KHS

KHSIA

Keystone Moldova English and Keystone Moldova Romanian

Keystone Human Services (KHS) is a non-profit organization that is a part of a global movement to provide support and expertise to people with disabilities.

KHS.org

एक मामूली चमत्कार के पीछे क्या है?

H3

H4

H5
H6

 

एक मामूली चमत्कार के पीछे क्या है?

– बेट्सी न्यूविल

कभी-कभी, सही परिस्थितियाँ उत्पन्न होती हैं कि वे किसी के लिए विकास के शक्तिशाली क्षण बन जाते और उनकी पहचान और व्यक्तित्व को मार्मिक ढंग से प्रकट करते हैं। गहरे रूप से चोट खाये और अवमूल्यित लोगों के लिए, कई बार उनकी पहचान उनकी विकलांगता तक सीमित हो जाती है, या व्यक्ति को केवल लोगों के समूह के एक हिस्से के रूप में देखा जाता है। हाल ही में, एक महिला की पहचान पर प्रकाश डालने वाला एक छोटा और चमकदार क्षण कैद किया गया।
सुश्री नेहा को उत्तरी भारत के एक कस्बे में सड़कों पर पाया गया, वह स्पष्ट रूप से परेशानी में थीं और हिंदी में संवाद करने में असमर्थ थीं। उसकी मातृभाषा को किसी ने नहीं पहचाना और उसे एक आश्रय गृह में रख दिया गया जहां वह पांच साल तक रही। उसकी भाषा को ना पहचान पाने के कारण, उसके साथ काम करने वाले लोग भी उसकी कहानी जानने, उसकी पहचान को समझने और उसके साथ सार्थक, रोजमर्रा के तरीकों से जुड़ने में असमर्थ थे। कुछ वर्षों में उसने हिंदी में कुछ प्रारंभिक शब्द सीखे, लेकिन सुविधा केंद्र की एक निवासी, उस आश्रय-स्थान में शरण लेने वाली महिलाओं के समूह की एक सदस्य के अलावा, वह लोगों के लिए अनजान थी- अकेले समूह में, और इकट्ठे भी अकेले।

This is meएक दिन, दो सामाजिक कार्यकर्ता उसके और वहां रहने वाले अन्य लोगों के बारे में और अधिक जानने के लिए पहुंचे। वे सुश्री नेहा की बात सुनने की इच्छा और खुद के उसको समझ पाने में असमर्थता से चकित थे। भाषाई भेद से जूझने के बाद, उन्होंने उसके साथ साक्षात्कार का विचार छोड़ दिया और देखभाल कर्मियों से बात करना शुरू कर दिया कि वह कैसे और कब मिली। बाद में, दोनों कार्यकर्ताओं ने सुश्री नेहा और उसकी स्थिति पर चर्चा करना शुरू कर दिया, यह कल्पना करने की कोशिश की कि संवाद करने में असमर्थ होना और समाज और उसके अतीत और उन लोगों से कट जाना जो उससे प्यार करते हैं और उसे जानते हैं, कैसा महसूस होता होगा। खुली जिज्ञासा के क्षण में, एक सामाजिक कार्यकर्ता ने कहा, “मुझे नहीं पता, लेकिन मुझे बस यही लगता है कि वह उड़ीसा से आती है। उसके चेहरे को देख कर मुझे कुछ ऐसा लगता है।” कुछ ही मिनटों में, उन्हें देखभाल करने वालों से अनुमति प्राप्त कर ली कि सुश्री नेहा को अपने परिचित एक उड़िया बोलने वाले व्यक्ति से कॉल पर बात करा सकें। 5 साल में पहली बार अपनी भाषा सुनने पर नेहा के चेहरे पर आई चमक देखना वहां मौजूद किसी भी व्यक्ति के लिए कभी न भूलने वाला पल था। बातचीत के खत्म होने तक, नेहा ओडिशा में अपने कई गांवों जिनमें वह रह चुकी थी और परिवार के कई सदस्यों के नाम बता रही थी। उसके लिए अपनी जड़ों को फिर से खोज पाने और अपनी कहानी को पुनः हासिल करने का रास्ता खुल गया था।

कई लोग इसे एक मामूली चमत्कार, या मात्र एक संयोग और बड़े सौभाग्य का क्षण भी कहेंगे। हालाँकि यह उससे ज़्यादा भी है और कम भी। वास्तव में, जिस चीज़ ने इस बदलाव को प्रेरित किया वह एक मानसिकता थी – नेहा के साथ एक वास्तविक पहचान बना पाने के लिए खुलापन का भाव। इसने कार्यकर्ता को संभावनाओं पर विचार करने के लिए प्रेरित किया, नेहा के चेहरे को महज एक आश्रयवासी या “वहाँ की महिलाओं में से एक” के रूप में नहीं, बल्कि जड़ों वाले व्यक्ति के रूप में देखना, एक ऐसी कहानी जिसे फिर से खोजने की जरूरत थी। यह वह मानसिकता है जिसे हममें से प्रत्येक के अंदर विकसित किया जा सकता है।